Symptoms of Diabetes in Hindi Tips

डायबिटीज़ के मरीज ध्यान दें / Symptoms of Diabetes

सामान्य स्थिति में हम जो खाते हैं, वह ग्लूकोज में बदलकर खून के जरिए पूरे शरीर में फैल जाता है। इसके बाद इंसुलिन हार्मोन, ग्लूकोज़ को ऊर्जा में बदलता है। लेकिन अधिकतर लोग इसे नियंत्रित करने के लिए अपने पसन्दीदा भोजन को त्याग देते है। क्योंकि वे नहीं जानते की डायबिटीज में कौन-कौन से खाद्य प्रदार्थो का सेवन किया जा सकता है। इसीलिए आज हम आपको डायबिटीज के मरीज क्या-क्या खा सकते है इस बारे में बताने जा रहे है। ताकि आप भी अपनी पसन्द के खाद्य प्रदार्थो का सेवन कर सके।

हम बात कर है डायबिटीज यानी मधुमेह की। जो शरीर में इन्सुलिन के स्त्राव के कम हो जाने के कारण होती है। घर में या जान-पहचान में किसी ना किसी को डायबिटीज से जूझते हुए देखा जा सकता है। एक ऐसी बीमारी, जो पूरी जीवनशैली को बदलने की मांग करती है।

मधुमेह के प्रारंभिक लक्षण

प्यासज्यादा लगना, पेशाब ज्यादा होना, भूख ज्यादा लगना, जननेन्द्रियों में खुजली के अलावा शरीर के किसी भी अंग में हुए घावों का देर से भरना ही इसके प्रारंभिक लक्षण हैं। यह बीमारी अनुवांशिक भी होती है। डायबिटीज की बीमारी दो प्रकार की होती है टाइप वन टाइप टू। टाइप वन बच्चों को भी हो सकता है। टाइप वन के उपचार के लिए अभी तक केवल इंसुलिन ही है

डायबिटीज में रखें इन बातों का खयाल :

ग्रीन टी पीना भी है फायदेमंद

ग्रीन टी में उच्च मात्रा में पॉलीफिनॉल पाया जाता है. ये एक सक्रिय एंटी-ऑक्सीडेंट है. जो ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मददगार है. प्रतिदिन सुबह और शाम ग्रीन टी पीने से फायदा होगा

वजन पर नियंत्रण

डायबिटीज का एक बड़ा कारण मोटापा है। इसलिए इस बीमारी से बचने के लिए व इस पर नियंत्रण स्थापित करने के लिए अपने शरीर को संतुलित रखना बहुत जरूरी है।

मीठी चीज पर नियंत्रण

डायबिटिक व्यक्ति को हमेशा अपने साथ कोई मीठी चीज जैसे ग्लूकोज, शकर, चॉकलेट, मीठे बिस्किट में से कुछ रखना चाहिए एवं ऐसे लक्षण होने पर तुरंत इनका सेवन करना चाहिए। एक सामान्य डायबिटिक व्यक्ति को अपने आहार में निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए कि वे थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ खाते रहें। दो या ढाई घंटे में कुछ खाएं। एक समय पर बहुत सारा खाना न खाएं।

Read more : मोटापा घटाने के जबरदस्त घरेलु उपाय

रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट से बचें

यदि आप अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित करना चाहते हैं तो, सफेद चावल, पास्ता, पॉपकॉर्न,राइस पफ और वाइट फ्लौर से बचें। मधुमेह के दौरान शरीर कार्बोहाइड्रेट्स को पचा नहीं पता है। जिस की वजह से शुगर आपके शरीर में तेज़ी से जमा होने लगती है।

कम कैलोरीयुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें

कैलोरीयुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें जैसे भुना चना छिलके वाला, परमल, अंकुरित अनाज, सूप, सलाद आदि का ज्यादा सेवन करें। दही (स्किम्ड मिल्क) से बनाया हुआ ले सकते हैं। छाछ का सेवन श्रेयस्कर होता है। मैथीदाना (दरदरा पिसा हुआ) 1/2-1 चम्मच खाना खाने के 15-20 मिनट पहले लेने से शुगर कंट्रोल में रहती है व फायदा होता है। रोटी के आटे को बिना चोकर निकाले प्रयोग में लाएं व इसकी गुणवत्ता बढ़ाने के लिए इसमें सोयाबीन मिला सकते हैं।

Symptoms of Diabetes in Hindi Tips

Symptoms of Diabetes in Hindi Tips

फाइबर का सेवन जरूरी

फाइबर युक्त आहार ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है। अवशोषित फाइबर ब्लड में शुगर की अधिक मात्रा को अवशोषित कर लेता है और इन्सुलिन को सामान्य करके डायबिटीज को नियंत्रित करता है।

खाने में ध्यान रखे

अतः सभी सब्जियों को कम से कम तेल का प्रयोग करके नॉनस्टिक कुकवेयर में पकाना चाहिए। हरी पत्तेदार सब्जियां खाना चाहिए। अपनी कैलोरीज का निर्धारण कुशल डायटिशियन से बनाकर उसके अनुसार चलें तो अवश्य ही लाभ होगा व भोजन में विकल्प ज्यादा मिल सकते हैं जिससे आपका भोजन वैरायटी वाला हो सकता है व बोरियत नहीं होगी।

दालचीनी का पाउडर

दालचीनी के प्रयोग से इंसुलिन की संवेदनशीलता बढ़ती है. ये ब्लड में शुगर के लेवल को कम करने और नियंत्रित करने में मददगार है. इसके नियमित सेवन से मोटापा भी कम किया जा सकता है. दालचीनी को महीन पीसकर पाउडर बना लें और उसे गुनगुने पानी के साथ लें. मात्रा का विशेष ध्यान दें. बहुत अधिक मात्रा में ये पाउडर लेना खतरनाक हो सकता है.

धूम्रपान से परहेज

लम्बे समय तक धूम्रपान करने से हृदय रोग और हार्मोन प्रभावित होने शुरू हो जाते हैं। धूम्रपान की आदत छोड़ देने से आपका स्वास्थ्य तो अच्छा रहेगा ही साथ ही डायबिटीज भी नियंत्रित रहेगी।

Read more : आपका मोबाइल फोन आपका टॉयलेट के जर्म्स से भी ज्यादा है..हो जाए अब सावधान

सहजन की पत्त‍ियों का रस भी है फायदेमंद

सहजन की पत्त‍ियों का रस भी डायबिटीज कंट्रोल करने में बहुत कारगर है. ड्रमस्ट‍िक की पत्त‍ियों को पीसकर उसे निचोड़ ले और सुबह खाली पेट इसका सेवन करें. इससे शुगर लेवल बढ़ेगा नहीं.

मधुमेह से नुकसान :

मधुमेहसे लकवा हो सकता है, आंखों की रोशनी कम हो सकती है। किडनी, आंत नसों को नुकसान हो सकता है। चूंकि मधुमेह में दर्द का पता कम चलता है, इसलिए अटैक का भी एहसास व्यक्ति को नहीं हो पाता और अटैक की संभावना बढ़ जाती है। छोटा सा घाव भी जल्दी नहीं भरता और नासूर बन जाता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे.